Download Kya Mausam Aaya Hai (क्या मौसम आया है ) | Anari | Karishma Kapoor | Venkatesh | Sadhana & Udit Hits Mp3

Kya Mausam Aaya Hai (क्या मौसम आया है ) | Anari | Karishma Kapoor | Venkatesh | Sadhana & Udit Hits

Duration: 12:45

Size: 17.51 MB

Published: 04 Agustus 2020

Listen: 66,944

Likes: 357


Your one-stop destination for authentic Indian content now with the biggest cashback offer! Get upto 100% Paytm cashback on purchasing any pack worth Rs.129 or more! Hurry & subscribe now: shemaroome.app.link/Liw2f3z14bb

Movie: Anari (1993)
Song: Kya Mausam Aaya Hai
Starcast: Venkatesh, Karisma Kapoor
Singer: Sadhana Sargam, Udit Narayan
Music: Anand-Milind
Lyrics: Sameer

Ho ho ooo ho ooo...
Kya mausam aya hai
Kya mausam aya hai
Purab se mastani purwai chali
Khushabu se mehaki hai phoolon ki gali
Geet gaye nadiya lehron mein hai sargam
Hai ghata diwani boondon mein hai chhamchham
Kya mausam aaya hai
Kya mausam aaya hai
Purab se mastani purwai chali Khushbu se meheki hai phoolon ki gali
Geet gaye nadiya lehron mein hai sargam
Hai ghata diwani boondon mein hai chhamchham
Kya mausam aaya hai
Mehlon ki rani dukhase begani lag jaye na dhup tujhe
Uda uda jau sabako batayu dhup lage hai chhav mujhe
Mehlon ki rani dukhase begani lag jaye na dhup tujhe
Uda uda jau sabako batayu dhup lage hai chhav mujhe
Katonse ho jaye pao na ghayal Katon pe nachungi bandh ke main payal
Ghar nahi hai ye to kutiya hamari hai
Ye teri katiya to mehlon se…

ओ ओ.. हो..
[क्या मौसम आया है
क्या मौसम आया है
पुरब से मस्तानी पुरवाई चली
खुशबु से महकी है फूलों की गली
गीत गाये नदिया लहरों में है सरगम
है घटा दीवानी बूंदों में है छम छम ] x २

क्या मौसम आया है

[महलों की नारी दुःख से बेगानी
लग जाये ना धुप तुझे
उड़ा उड़ा जाऊं सबको बताऊँ
धुप लगे है छाँव मुझे ] x २

काँटों से हो जाये पांव ना घायल
काँटों पे नाचूंगी बांधके मैं पायल
घर नहीं है ये तो, कुटिया हमारी है
ये तेरी कुटिया तो, महलों से प्यारी है

क्या मौसम आया है
क्या मौसम आया है
पुरब से मस्तानी पुरवाई चली
खुशबु से महकी है फूलों की गली

गीत गाये नदिया लहरों में है सरगम
है घटा दीवानी बूंदों में है छम छम
क्या मौसम आया है

[बहते पवन के उजले गगन के
जी करता है साथ चलूँ
चिकनी डगर है गिरने का डर है
थाम के तेरा हाथ चलूँ ] x २

धरती पे बिखरे हैं ओस के मोती
ये तेरी बोली तो सुर नए पिरोती
दर्द का वो आँगन मैं छोड़ के आई
क्या तुझे जन्नत की रौनक नहीं भाई

क्या मौसम आया है
क्या मौसम आया है

पुरब से मस्तानी पुरवाई चली
खुशबु से महकी है फूलों की गली

गीत गाये नदिया लहरों में है सरगम
है घटा दीवानी बूंदों में है छम छम
क्या मौसम आया है
क्या मौसम आया है